होम / शायर : मिर्ज़ा ग़ालिब

मिर्ज़ा ग़ालिब की शायरी

सैड शायरी

ग़ालिब की उर्दू शायरी तुम न आए...

तुम न आए तो क्या सहर न हुई,
हाँ मगर चैन से बसर न हुई,
मेरा नाला सुना ज़माने ने,
एक तुम हो जिसे ख़बर न हुई।
--------------------------------------
बूए-गुल, नाला-ए-दिल, दूदे चिराग़े महफ़िल,
जो तेरी बज़्म से निकला सो परीशाँ निकला।
चन्द तसवीरें-बुताँ चन्द हसीनों के ख़ुतूत,
बाद मरने के मेरे घर से यह सामाँ निकला।
--------------------------------------
हासिल से हाथ धो बैठ ऐ आरज़ू-ख़िरामी,
दिल जोश-ए-गिर्या में है डूबी हुई असामी,
उस शम्अ की तरह से जिस को कोई बुझा दे,
मैं भी जले-हुओं में हूँ दाग़-ए-ना-तमामी।

सहर = सुबह, बसर = गुजरना, नाला = शिकवा

~ मिर्ज़ा ग़ालिब
एडमिन द्वारा दिनाँक 16.01.16 को प्रस्तुत | कमेंट करें
-Advertisement-
दो लाइन शायरी

ग़ालिब की हिंदी उर्दू शायरी...

इशरत-ए-क़तरा है दरिया में फ़ना हो जाना,
दर्द का हद से गुज़रना है दवा हो जाना।
--------------------------------------
उग रहा है दर-ओ-दीवार से सबज़ा ग़ालिब,
हम बयाबां में हैं और घर में बहार आई है।
--------------------------------------
घर में था क्या कि तेरा ग़म उसे ग़ारत करता,
वो जो रखते थे हम इक हसरत-ए-तामीर सो है।
--------------------------------------
ज़िंदगी अपनी जब इस शक्ल से गुज़री,
हम भी क्या याद करेंगे कि ख़ुदा रखते थे।
--------------------------------------
ता हम को शिकायत की भी बाक़ी न रहे जा,
सुन लेते हैं गो ज़िक्र हमारा नहीं करते।
--------------------------------------
ग़ालिब तिरा अहवाल सुना देंगे हम उन को,
वो सुन के बुला लें ये इजारा नहीं करते।
--------------------------------------
मुँद गईं खोलते ही खोलते आँखें ग़ालिब,
यार लाए मेरी बालीं पे उसे पर किस वक़्त।
--------------------------------------
लो हम मरीज़-ए-इश्क़ के बीमार-दार हैं,
अच्छा अगर न हो तो मसीहा का क्या इलाज।

~ मिर्ज़ा ग़ालिब
एडमिन द्वारा दिनाँक 16.01.16 को प्रस्तुत | कमेंट करें
-Advertisement-
सैड शायरी

दर्द देकर खुद सवाल मिर्ज़ा ग़ालिब...

दर्द देकर खुद सवाल करते हो,
तुम भी गालिब, कमाल करते हो;

देख कर पुछ लिया हाल मेरा,
चलो इतना तो ख्याल करते हो;

शहर-ए-दिल मेँ उदासियाँ कैसी,
ये भी मुझसे सवाल करते हो;

मरना चाहे तो मर नही सकते,
तुम भी जीना मुहाल करते हो;

अब किस-किस की मिसाल दूँ तुमको,
तुम हर सितम बेमिसाल करते हो।

~ मिर्ज़ा ग़ालिब
एडमिन द्वारा दिनाँक 16.01.16 को प्रस्तुत | कमेंट करें
दो लाइन शायरी

गालिब की शायरी सिसकियाँ लेता है वजूद...

सिसकियाँ लेता है वजूद मेरा गालिब,
नोंच नोंच कर खा गई तेरी याद मुझे।
--------------------------------------
इश्क़ पर ज़ोर नहीं है ये वो आतिश ग़ालिब,
कि लगाए न लगे और बुझाए न बने।
--------------------------------------
बोसा देते नहीं और दिल पे है हर लहज़ा निगाह,
जी में कहते हैं कि मुफ़्त आए तो माल अच्छा है।
--------------------------------------
ज़िक्र उस परी-वश का और फिर बयाँ अपना;
बन गया रक़ीब आख़िर था जो राज़-दाँ अपना।
--------------------------------------
कोई मेरे दिल से पूछे तेरे तीर-ए-नीम-कश को,
ये ख़लिश कहाँ से होती जो जिगर के पार होता।

~ मिर्ज़ा ग़ालिब
एडमिन द्वारा दिनाँक 16.01.16 को प्रस्तुत | कमेंट करें
-Advertisement-
हर्ट टचिंग लाइन

मशरूफ रहने का...

मशरूफ रहने का अंदाज़
तुम्हें तनहा ना कर दे ग़ालिब,
रिश्ते फुर्सत के नहीं
तवज्जो के मोहताज़ होते हैं...।

~ मिर्ज़ा ग़ालिब
एडमिन द्वारा दिनाँक 22.04.15 को प्रस्तुत | कमेंट करें
पेज शेयर करें
   
© 2015-2017 हिंदी-शायरी.इन | डिसक्लेमर | संपर्क करें | साईटमैप
Best Shayari in hindi | Love Sad Funny Shayari and Status in Hindi