होम / अरमान शायरी / उम्मीदें जुड़ी हैं तुझसे

उम्मीदें जुड़ी हैं तुझसे...


( शमीम खान द्वारा दिनाँक 09.06.16 को प्रस्तुत )
Advertisement

उम्मीदें जुड़ी हैं तुझसे टूटने मत देना,
दिल एक मोम है पिघलने मत देना,
दिल ने चाहा है उसे... आज पता चला ,
इस धड़कन को कभी बंद होने मत देना।




Advertisement

आप इन्हें भी पसंद करेंगे

Advertisement
Ads from AdNow
loading...

« पिछला पोस्ट अगला पोस्ट »