होम / दर्द शायरी / दर्द की दौलत

दर्द की दौलत...


( एडमिन द्वारा दिनाँक 26.11.16 को प्रस्तुत )
Advertisement

खुद को औरों की तवज्जो का तमाशा न करो,
आइना देख लो अहबाब से पूछा न करो,
शेर अच्छे भी कहो, सच भी कहो, कम भी कहो,
दर्द की दौलत-ए-नायाब को रुसवा न करो।

दर्द की दौलत



Advertisement

आप इन्हें भी पसंद करेंगे

Advertisement
Ads from AdNow
loading...

« पिछला पोस्ट अगला पोस्ट »