होम / शिक़वा शायरी / हम बिकते रहे

हम बिकते रहे...


( एडमिन द्वारा दिनाँक 27.11.16 को प्रस्तुत )
Advertisement

तुझे फुर्सत ही न मिली मुझे पढ़ने की वरना,
हम तेरे शहर में बिकते रहे किताबों की तरह।

हम बिकते रहे



Advertisement

आप इन्हें भी पसंद करेंगे

Advertisement
Ads from AdNow
loading...

« पिछला पोस्ट अगला पोस्ट »