होम / सैड शायरी / जुस्तजू का सिला

जुस्तजू का सिला...


( एडमिन द्वारा दिनाँक 27.11.16 को प्रस्तुत )
Advertisement

हमें अपने घर से चले हुए,
सरे राह उमर गुजर गई,
न कोई जुस्तजू का सिला मिला,
न सफर का हक ही अदा हुआ।

जुस्तजू का सिला



Advertisement

आप इन्हें भी पसंद करेंगे

Advertisement
Ads from AdNow
loading...

« पिछला पोस्ट अगला पोस्ट »