होम / दो लाइन शायरी / लौ चिरागों की

लौ चिरागों की...


( एडमिन द्वारा दिनाँक 28.11.16 को प्रस्तुत )
Advertisement

अभी महफ़िल में चेहरे नादान नज़र आते हैं,
लौ चिरागों की जरा और घटा दी जाये।




Advertisement

आप इन्हें भी पसंद करेंगे

Advertisement
Ads from AdNow
loading...

« पिछला पोस्ट अगला पोस्ट »