होम / दर्द शायरी / फूल मुरझा जायेंगे

फूल मुरझा जायेंगे...


( निजामुद्दीन अल्वी द्वारा दिनाँक 01.12.16 को प्रस्तुत )
Advertisement

बहारों के फूल एक दिन मुरझा जायेंगे,
भूले से कहीं याद तुम्हें हम आ जायेंगे,
अहसास होगा तुमको हमारी मोहब्बत का,
जब कहीं हम तुमसे बहुत दूर चले जायेंगे।

फूल मुरझा जायेंगे



Advertisement

आप इन्हें भी पसंद करेंगे

Advertisement
Ads from AdNow
loading...

« पिछला पोस्ट अगला पोस्ट »