होम / दर्द शायरी / मैं जो रोया

मैं जो रोया...


( एडमिन द्वारा दिनाँक 01.12.16 को प्रस्तुत )
Advertisement

एक फ़साना सुन गए एक कह गए,
हम जो रोये तो मुस्कुराकर रह गए।

मैं जो रोया



Advertisement

आप इन्हें भी पसंद करेंगे

Advertisement
Ads from AdNow
loading...

« पिछला पोस्ट अगला पोस्ट »