होम / प्रेरक शायरी / डर मुझे भी लगा

डर मुझे भी लगा...


( पंकज कुमार द्वारा दिनाँक 02.07.15 को प्रस्तुत )
Advertisement

डर मुझे भी लगा फांसला देख कर,
पर मैं बढ़ता गया रास्ता देख कर,
खुद ब खुद मेरे नज़दीक आती गई,
मेरी मंज़िल मेरा हौंसला देख कर ।

डर मुझे भी लगा



Advertisement

आप इन्हें भी पसंद करेंगे

Advertisement
Ads from AdNow
loading...

« पिछला पोस्ट