होम / दोस्ती शायरी / कौन कहाँ होगा

कौन कहाँ होगा

( सुखराम यादव द्वारा दिनाँक 01-05-2017 को प्रस्तुत )
-Advertisement-

बरसों बाद न जाने क्या समां होगा,
हमसब दोस्तों में न जानें कौन कहाँ होगा,
अगर मिलना हुआ तो मिलेंगें ख्वाबों में,
जैसे सूखे हुये गुलाब मिलते हैं किताबों में।

-Advertisement-

आप इन्हें भी पसंद करेंगे

-Advertisement-
Ads from AdNow
loading...
पेज शेयर करें
   
© 2015-2017 हिंदी-शायरी.इन | डिसक्लेमर | संपर्क करें | साईटमैप
Best Shayari in hindi | Love Sad Funny Shayari and Status in Hindi