होम / हिंदी उर्दू ग़ज़ल / रंग बिखरे थे कितने

रंग बिखरे थे कितने

( अंजुम सिराज द्वारा दिनाँक 24-02-2018 को प्रस्तुत )
-Advertisement-

रंग बिखरे थे कितने मोहब्बत के थे वो,
इक वो ही था जो कितना बेरंग निकला।

मैं ही वो शबनम थी जिसने चमन को सींचा,
मुझे ही छोड़ कर वो बारिश में भीगने निकला।

मेरा वजूद है तो रोशन है तेरे घर के दिये,
मैंने देखा था तू कितना बेरहम निकला।

न जाने कहाँ हर्फे वफ़ा गम होके रह गई,
सरे राह मेरी मोहब्बत का जनाज़ा निकला।

दिल है खामोश उदासी फिजा में छाई है,
मुद्दतें बीती बहारों का काफिला निकला।

टूटे हुए ख्वाब और सिसकती सदाओं ने कहा,
करने बर्बाद मुझे मेरे घर का रहनुमा निकला।

(अंजुम सिराज)

-Advertisement-

आप इन्हें भी पसंद करेंगे

-Advertisement-
पेज शेयर करें
   
© 2015-2018 हिंदी-शायरी.इन | डिसक्लेमर | संपर्क करें | साईटमैप
Best Shayari in hindi | Love Sad Funny Shayari and Status in Hindi