होम / व्हाट्सएप स्टेटस / रजनीकांत पर कटप्पा भारी

रजनीकांत पर कटप्पा भारी

( एडमिन द्वारा दिनाँक 28-10-2015 को प्रस्तुत )
-Advertisement-

रजनीकांत और कटप्पा की मुलाकात हो जाती है।

रजनीकांत ~ मेरे गाँव में लाइट नहीं थी, मैं अगरबत्ती जलाकर उसकी रौशनी में पढ़ता था।

कटप्पा~ हमारे गाँव में तो बिजली भी नहीं थी और हमारे पास अगरबत्ती के पैसे भी नहीं थे, फिर भी मैं पढ़ा ।

रजनीकांत~ कैसे ?

कटप्पा~ मेरा एक मित्र था प्रकाश, उसे पास बिठा कर पढता था। एक दिन प्रकाश भीग गया वो नहीं आया फिर भी मैं पढ़ा ।

रजनीकांत ~ कैसे?

कटप्पा~ गाँव में ज्योति नाम की लड़की भी तो थी । उसके पास बैठ कर।

रजनीकांत बेहोश...

-Advertisement-

आप इन्हें भी पसंद करेंगे

-Advertisement-
पेज शेयर करें
   
© 2015-2017 हिंदी-शायरी.इन | डिसक्लेमर | संपर्क करें | साईटमैप
Best Shayari in hindi | Love Sad Funny Shayari and Status in Hindi