होम / दर्द शायरी / शायरी दर्द बिकता नहीं

शायरी दर्द बिकता नहीं

( एडमिन द्वारा दिनाँक 30-12-2015 को प्रस्तुत )
-Advertisement-

मेरी हर आह को वाह मिली है यहाँ,
कौन कहता है दर्द बिकता नहीं है।



रात को कह दो, कि जरा धीरे से गुजरे;
काफी मिन्नतों के बाद, आज दर्द सो रहा है।

-Advertisement-

आप इन्हें भी पसंद करेंगे

-Advertisement-
पेज शेयर करें
   
© 2015-2017 हिंदी-शायरी.इन | डिसक्लेमर | संपर्क करें | साईटमैप
Best Shayari in hindi | Love Sad Funny Shayari and Status in Hindi