होम / कैटेगरी : दर्द शायरी

Dard Shayari in Hindi

मेरी दर्द भरी रातें...


सजा कैसी मिली मुझको तुमसे दिल लगाने की,
रोना ही पड़ा है जब कोशिश की मुस्कुराने की,
कौन बनेगा यहाँ मेरी दर्द-भरी रातों का हमराज,
दर्द ही मिला जो तुमने कोशिश की आजमाने की।



एडमिन द्वारा दिनाँक 07.12.16 को प्रस्तुत | कमेंट करें
Advertisement

आह भर नहीं सका...


महफिल से उठकर तो कब के चले गये थे वो,
फिर भी उनकी महक फैली रही देर तक।

दीदार ए हुस्न से ही मिलती थी दिल को ठंडक,
फिर भी चेहरा छुपाते रहे वो आज देर तक।

भूल जाता था जो दिल देख कर उनको धड़कना,
जाने क्यों बिना देखे ही उनको आज धड़का है देर तक।

दिल टूटने की आवाज तो दिल मे ही दबकर रही,
जाने क्यों वहाँ इक सन्नाटा फैला रहा देर तक।

जलने को तो सभी दोस्त ही मुझसे जलते रहे,
देखा जो उनका हाथ मेरे हाथ में रखा देर तक।

ना शिकवा रहा ना ही कोई शिकायत रही,
जब होती रही उनसे रात गुफ्तगू देर तक।

बारिश से कह दो कि वह फिर कभी बरसे,
आज आँसुओं ने बरसने कि ठानी है देर तक।

चोट खाकर भी आह भर नहीं सका 'विनोद'
देखा जो उनका चेहरा मुस्कुराता देर तक।



विनोद सिन्हा द्वारा दिनाँक 04.12.16 को प्रस्तुत | कमेंट करें
Advertisement

मैं जो रोया...


एक फ़साना सुन गए एक कह गए,
हम जो रोये तो मुस्कुराकर रह गए।


मैं जो रोया शायरी

एडमिन द्वारा दिनाँक 01.12.16 को प्रस्तुत | कमेंट करें

फूल मुरझा जायेंगे...


बहारों के फूल एक दिन मुरझा जायेंगे,
भूले से कहीं याद तुम्हें हम आ जायेंगे,
अहसास होगा तुमको हमारी मोहब्बत का,
जब कहीं हम तुमसे बहुत दूर चले जायेंगे।


फूल मुरझा जायेंगे शायरी

निजामुद्दीन अल्वी द्वारा दिनाँक 01.12.16 को प्रस्तुत | कमेंट करें
Advertisement

राज को राज रहने दो...


आशियाँ बस गया जिनका, उन्हें आबाद रहने दो,
पड़े जो दर्द भरे छाले, जिगर में यूँ ही रहने दो,
कुरेदो ना मेरे दिल को, ये अर्जी है जहां वालों,
छिपा है राज अब तक जो, राज को राज रहने दो।


राज को राज रहने दो शायरी

राजेश कुमार वर्मा द्वारा दिनाँक 29.11.16 को प्रस्तुत | कमेंट करें
Ads from AdNow
loading...