होम / कैटेगरी : मौसम शायरी

Mausam Shayari in Hindi

तपिश और बढ़ गई...


तपिश और बढ़ गई इन चंद बूंदों के बाद,
काले स्याह बादल ने भी बस यूँ ही बहलाया मुझे।



एडमिन द्वारा दिनाँक 24.11.16 को प्रस्तुत | कमेंट करें
Advertisement

बेहतरीन बारिश शायरी...


एक बेहतरीन बारिश शायरी :-

सतरंगी अरमानों वाले,
सपने दिल में पलते हैं,
आशा और निराशा की,
धुन में रोज मचलते हैं,
बरस-बरस के सावन सोंचे,
प्यास मिटाई दुनिया की,
वो क्या जाने दीवाने तो
सावन में ही जलते है।



एडमिन द्वारा दिनाँक 03.11.16 को प्रस्तुत | कमेंट करें
Advertisement

हवा भी सर्द थी...


कुछ तो हवा भी सर्द थी
कुछ था तेरा ख़याल भी,
दिल को ख़ुशी के साथ साथ
होता रहा मलाल भी।



एडमिन द्वारा दिनाँक 03.11.16 को प्रस्तुत | कमेंट करें

बीत गया मौसम...


बादलों ने बहुत बारिश बरसाई,
तेरी याद आई पर तू ना आई,
सर्द रातों में उठ -उठ कर,
हमने तुझे आवाज़ लगाई,
तेरी याद आई पर तू ना आई,
भीगी -भीगी हवाओ में,
तेरी ख़ुशबू है समाई,
तेरी याद आई पर तू ना आई,
बीत गया बारिश का मौसम
बस रह गयी तनहाई,
तेरी याद आई पर तू ना आई।



सौरभ चौधरी द्वारा दिनाँक 12.10.16 को प्रस्तुत | कमेंट करें
Advertisement

कुछ तो तेरे मौसम...


कुछ तो तेरे मौसम ही मुझे रास कम आए,
और कुछ मेरी मिट्टी में बग़ावत भी बहुत थी।


कुछ तो तेरे मौसम शायरी

एडमिन द्वारा दिनाँक 10.10.16 को प्रस्तुत | कमेंट करें
Ads from AdNow
loading...