Search Results for - अलोक सिंह

दोस्ती शायरी

मुझे तुमसे मिलाया...

न जाने किस मिट्टी से खुदा ने तुमको बनाया है,
अनजाने में इक ख्वाब इन आँखों को दिखाया है,
मेरी हसरत थी हमेशा से खुदा से मिलने की दोस्त,
शायद इसीलिये किस्मत ने मुझे तुमसे मिलाया है।

अलोक सिंह द्वारा दिनाँक 15.12.16 को प्रस्तुत
रोमांटिक शायरी

तुझमें समा जाऊँ...

जब यार मेरा हो पास मेरे,
मैं क्यूँ न हद से गुजर जाऊँ,
जिस्म बना लूँ उसे मैं अपना,
या रूह मैं उसकी बन जाऊँ।

लबों से छू लूँ जिस्म तेरा,
साँसों में साँस जगा जाऊँ,
तू कहे अगर इक बार मुझे,
मैं खुद ही तुझमें समा जाऊँ।

Labon Se Chhoo Lun...

Jab Yaar Mera Ho Paas Mere,
Main Kyun Na Hadd Se Gujar Jaun,
Jism Bana Loon Use Main Apna,
Ya Rooh Main Uski Ban Jaaun.

Labon Se Chhoo Lun Jism Tera,
Saanson Mein Saans Jaga Jaaun,
Tu Kahe Agar Ik Baar Mujhe,
Main Khud Hi Tujhme Sama Jaaun.

अलोक सिंह द्वारा दिनाँक 15.12.16 को प्रस्तुत
पेज शेयर करें
   
© 2015-2017 हिंदी-शायरी.इन | डिसक्लेमर | संपर्क करें | साईटमैप
Best Shayari in hindi | Love Sad Funny Shayari and Status in Hindi