Search Results for - कलीम

दर्द शायरी

छीन ली हमारी मोहब्बत...

खामोश फ़िज़ा थी कोई साया न था,
इस शहर में मुझसा कोई आया न था,
किसी ज़ुल्म ने छीन ली हम से हमारी मोहब्बत,
हमने तो किसी का दिल दुखाया न था।

Khamosh Fiza Thi...

Khamosh Fiza Thi Koi Saaya Na Tha,
Iss Shahar Mein MujhSa Koi Aaya Na Tha,
Kisi Zulm Ne Chheen Li HumSe Humari Mohabbat,
Humne Toh Kisi Ka Dil Dukhaya Na Tha.

कलीम द्वारा दिनाँक 01.10.17 को प्रस्तुत
पेज शेयर करें
   
© 2015-2018 हिंदी-शायरी.इन | डिसक्लेमर | संपर्क करें | साईटमैप
Best Shayari in hindi | Love Sad Funny Shayari and Status in Hindi