Search Results for - जमील अख्तर

इश्क़ शायरी

ये इश्क़ की इन्तहा...

दिल की हसरत मेरी जुबान पे आने लगी,
तूने देखा और ये ज़िन्दगी मुस्कुराने लगी,
ये इश्क़ की इन्तहा थी या दीवानगी मेरी,
हर सूरत में सूरत तेरी नजर आने लगी।

जमील अख्तर द्वारा दिनाँक 11.05.17 को प्रस्तुत
रोमांटिक शायरी

खुशबू की तरह...

खुशबू की तरह आसपास बिखर जायेंगे,
सुकून बनकर दिल में उतर जायेंगे,
महसूस करने की कोशिश कीजिये,
दूर होकर भी आपके पास नजर आएंगे।

जमील अख्तर द्वारा दिनाँक 11.05.17 को प्रस्तुत
पेज शेयर करें
   
© 2015-2017 हिंदी-शायरी.इन | डिसक्लेमर | संपर्क करें | साईटमैप
Best Shayari in hindi | Love Sad Funny Shayari and Status in Hindi