Search Results for - पंकज कुमार

जुदाई शायरी

ऐ चाँद चला जा क्यूँ आया है...

ऐ चाँद चला जा
क्यूँ आया है तू मेरी चौखट पर,
छोड़ गया वो शख्स
जिस के धोखे मे तुझे देखते थे ।

Ai Chaand Chala Ja...

Ai Chaand Chala Ja
Kyun Aaya Hai Tu Meri Chaukhat Par,
Chhod Gaya Wo Shakhs
Jis Ke Dhokhe Me Tujhe Dekhte The !

पंकज कुमार द्वारा दिनाँक 24.06.15 को प्रस्तुत
याद शायरी

यूँ तो मुद्दतें गुजार दी...

यूँ तो मुद्दतें गुजार दी है
हमने तेरे बगैर...

मगर,
आज भी तेरी यादों का एक झोंका
मुझे टुकड़ो मे बिखेर देता है ।

Teri Yaadon Ka Jhoka...

Yun To Muddaten Gujaar Di Hain,
Humne Tere Bagair...

Magar,
Aaj Bhi Teri Yaadon Ka Ek Jhoka
Mujhe Tukdo Me Bikher Deta Hai !

पंकज कुमार द्वारा दिनाँक 25.06.15 को प्रस्तुत
सैड शायरी

कुछ रिश्ते उम्र अगर...

कुछ रिश्ते उम्र भर अगर बेनाम रहे तो अच्छा है,
आँखों आँखों में ही कुछ पैगाम रहे तो अच्छा है,

सुना है मंज़िल मिलते ही उसकी चाहत मर जाती है,
गर ये सच है तो फिर हम नाकाम रहें तो अच्छा है,

जब मेरा हमदम ही मेरे दिल को न पहचान सका,
फिर ऐसी दुनिया में हम गुमनाम रहे तो अच्छा है..।

Mera Humdum Na Pahchhan Saka...

Kuchh Rishte Umr Bhar Agar Benaam Rahen To Achchha Hai,
Aankho Aankho Me Hi Kuchh Paigaam Rahe To Achchha Hai,

Suna Hai Manzil Milte Hi Uski Chahat Mar Jaati Hai,
Gar Ye Sach Hai To Fir Hum Naakam Rahen To Achchha Hai,

Jab Mera Humdum Hi Mere Dil Ko Na Pahchhan Saka,
Aisi Duniya Me Hum Gum-naam Rahen To Achchha Hai !

पंकज कुमार द्वारा दिनाँक 26.06.15 को प्रस्तुत
अरमान शायरी

दो अश्क मेरी याद में...

दो अश्क मेरी याद में बहा जाते तो क्या जाता,
चन्द कालियां लाश पे बिछा जाते तो क्या जाता ।

आये हो मेरी मय्यत पर सनम नक़ाब ओढ़ कर तुम,
अगर ये चांद का टुकडा दिखा जाते तो क्या जाता ।

Do Ashq Meri Yaad Me...

Do Ashq Meri Yaad Me Bahaa Jate To Kya Jata,
Chand Kaliyan Laash Pe Bichha Jate To Kya Jata,

Aaye Ho Meri Mayyat Par Sanam Naqaab Odhkar,
Agar Ye Chaand Ka Tukda Dikha Jaate To Kya Jata!

पंकज कुमार द्वारा दिनाँक 27.06.15 को प्रस्तुत
बेवफा शायरी

कौन कहता है हम...

कौन कहता है हम उसके बिना मर जायेंगे,
हम तो दरिया है समंदर में उतर जायेंगे,
वो तरस जायेंगे प्यार की एक बूँद के लिए,
हम तो बादल है प्यार के
कहीं और बरस जायेंगे...।

Hum Badal Hain Pyaar Ke...

Kaun Kahta Hai Hum Uske Bina Mar Jayenge,
Hum To Dariya Hain Samandar Me Utar Jayenge,
Wo Taras Jayenge Pyaar Ki Ek Boond Ke Liye,
Hum To Badal Hain Pyaar Ke
Kahin Aur Baras Jayenge !

पंकज कुमार द्वारा दिनाँक 29.06.15 को प्रस्तुत

पेज शेयर करें
   
© 2015-2017 हिंदी-शायरी.इन | डिसक्लेमर | संपर्क करें | साईटमैप
Best Shayari in hindi | Love Sad Funny Shayari and Status in Hindi