Search Results for - मनीष

दिल शायरी

ये गुस्ताख़ दिल...

ये गुस्ताख़ दिल न जाने क्या कर बैठा,
मुझसे बिना पूछे ही फैसला कर बैठा,
इस धरती पर टूटा सितारा भी नहीं गिरता,
और ये पागल, चाँद से मोहब्बत कर बैठा।

मनीष त्रिपाठी द्वारा दिनाँक 04.05.17 को प्रस्तुत
तारीफ़ शायरी

कितना खूबसूरत चेहरा...

कितना खूबसूरत चेहरा है तुम्हारा,
ये दिल तो बस दीवाना है तुम्हारा,
लोग कहते है चाँद का टुकड़ा तुम्हें,
पर मैं कहता हूँ चाँद भी टुकड़ा है तुम्हारा।

मनीष त्रिपाठी द्वारा दिनाँक 04.05.17 को प्रस्तुत
सुन्दर वाक्य

एक कमी ही काफी...

अपनाने के लिये हजार खूबियाँ कम है,
छोड़ने के लिये एक कमी ही काफी है।

मनीष कुमार सिंह द्वारा दिनाँक 09.05.17 को प्रस्तुत
लव शायरी

आपको पाने के लिये...

माना कि तुम जीते हो ज़माने के लिये,
एक बार जी के तो देखो हमारे लिये,
दिल की क्या औकात आपके सामने,
हम तो जान भी दे देंगे आपको पाने के लिये!

मनीष कुमार सिंह द्वारा दिनाँक 09.05.17 को प्रस्तुत
अश्क़ शायरी

आँसू लेके आँखों में...

आँखों में आँसू लेके होठों से मुस्कुराये,
हम जैसे जी रहे हैं कोई जी के तो बताये।

मनीष द्वारा दिनाँक 23.07.17 को प्रस्तुत

पेज शेयर करें
   
© 2015-2018 हिंदी-शायरी.इन | डिसक्लेमर | संपर्क करें | साईटमैप
Best Shayari in hindi | Love Sad Funny Shayari and Status in Hindi