Search Results for - रीता वर्मा

सैड शायरी

मंजिल भी उसी की थी...

मंजिल भी उसी की थी रास्ता भी उसका था,
एक हम अकेले थे काफिला भी उसका था,
साथ साथ चलने की कसम भी उसी की थी,
और रास्ता बदलने का फैसला भी उसका था।

Rasta Badlne Ka Faisla...

Manzil Bhi Usee Ki Thi Rasta Bhi Uska Tha,
Ek Hum Akele The Kafila Bhi Uska Tha,
Saath Saath Chalne Ki Kasam Bhi Usee Ki Thi,
Aur Rasta Badlne Ka Fasila Bhi Uska Tha.

रीता वर्मा द्वारा दिनाँक 13.10.17 को प्रस्तुत
पेज शेयर करें
   
© 2015-2018 हिंदी-शायरी.इन | डिसक्लेमर | संपर्क करें | साईटमैप
Best Shayari in hindi | Love Sad Funny Shayari and Status in Hindi