Search Results for - Kuldeep Vats

अन्य

कुछ को ख्वाब...

कुछ को ख्वाब देख के
जीने की आदत है,
कुछ को मैखाने में
पीने की आदत है ।

हम हैं परेशां दीवानापन
की आदतों से,
पर जाने क्यों शादी की
शहनाईयों से डरते हैं ।

Kuchh Ko Khwaab...

Kuchh Ko Khwaab Dekh Ke
Jeene Ki Aadat Hai,
Kuchh Ko Maikhane Me
Peene Ki Aadat Hai !

Hum Hain Pareshaan Deewanapan
Ki Aadaton Se,
Par Jaane Kyun Shaadi Ki
Shahnayion Se Darte Hain !

कुलदीप वत्स द्वारा दिनाँक 07.03.15 को प्रस्तुत
सैड शायरी

पलकों को कभी...

पलकों को कभी हमने भिगोए ही नहीं,
वो सोचते हैं की हम कभी रोये ही नहीं,
वो पूछते हैं कि ख्वाबो में किसे देखते हो?
और हम हैं की उनकी यादो में सोए ही नहीं।

Palkon Ko Kabhi...

Palkon Ko Kabhi Hum Bhigoye Hi Nahi,
Wo Sochte Hain Ki Hum Kabhi Roye Hi Nahi,
Wo Puchhte Hain Ki Khwaabo Me Kise Dekhte Ho?
Aur Hum Hain Ki Unki Yaad Me Soye Hi Nahi!

कुलदीप वत्स द्वारा दिनाँक 07.03.15 को प्रस्तुत
रोमांटिक शायरी

दिल के सागर मे...

दिल के सागर में लहरें उठाया ना करो,
ख्वाब बनकर नींद चुराया ना करो,
बहुत चोट लगती है मेरे दिल को,
तुम ख्वाबो में आ कर यूँ तड़पाया ना करो...।

Dil Ke Sagar Me...

Dil Ke Sagar Me Lahren Uthaya Na Karo,
Khwaab Bankar Neend Churaya Na Karo,
Bahut Chot Lagti Hai Mere Dil Ko,
Tum Kwaabon Me Aakar Yun Tadpaya Na Karo!

कुलदीप वत्स द्वारा दिनाँक 07.03.15 को प्रस्तुत
तन्हाई शायरी

पत्थर की दुनिया...

पत्थर की दुनिया जज्वात नहीं समझती,
दिल में क्या है वो बात नहीं समझती ।

तनहा तो चाँद भी सितारों के बीच में है,
पर चाँद का दर्द वो रात नहीं समझती ।

Patthar Ki Duniya...

Patthar Ki Duniya Jazbaat Nahi Samjhati,
Dil Mein Kya Hai Wo Baat Nahi Samajhati !

Tanha To Chaand Bhi Sitaaron Ke Bhich Mein Hai,
Par Chaand Ka Dard Wo Raat Nahi Samjhati !!

कुलदीप वत्स द्वारा दिनाँक 08.03.15 को प्रस्तुत
रोमांटिक शायरी

मेरी चाहतें तुमसे...

मेरी चाहतें तुमसे अलग कब हैं,
दिल की बातें तुमसे छुपी कब हैं ।

तुम साथ रहो दिल में धड़कन की जगह,
फिर ज़िन्दगी को साँसों की ज़रुरत कब है ।

Meri Chaahaten Tumse...

Meri Chaahaten Tumse Alag Kab Hain,
Dil Ki Baaten Tumse Chhupi Kab Hain..

Tum Saath Raho Dil Mein Dhadkan Ki Jagah ,
Phir Zindagi Ko Saanson Ki Zaroorat Kab Hai ...!

कुलदीप वत्स द्वारा दिनाँक 08.03.15 को प्रस्तुत
पेज शेयर करें
   
© 2015-2018 हिंदी-शायरी.इन | डिसक्लेमर | संपर्क करें | साईटमैप
Best Shayari in hindi | Love Sad Funny Shayari and Status in Hindi