Search Results for - Raju Paswan

जिंदगी शायरी

मत पूछ इस जिंदगी में...

बेगाने होते लोग देखे,
अजनबी होता शहर देखा
हर इंसान को यहाँ,
मैंने खुद से ही बेखबर देखा।

रोते हुए नयन देखे,
मुस्कुराता हुआ अधर देखा
गैरों के हाथों में मरहम,
अपनों के हाथों में खंजर देखा।

मत पूछ इस जिंदगी में,
इन आँखों ने क्या मंजर देखा
मैंने हर इंसान को यहाँ,
बस खुद से ही बेखबर देखा।

Begaane Hote Log...

Begaane Hote Log Dekhe
Ajnabi Hota Shahar Dekha,
Har Insaan Ko Yahan
Maine Khud Se Hi Bekhabar Dekha.

Rote Hue Nayan Dekhe
Muskurata Hua Adhar Dekha,
Gairon Ke Haathon Mein Marham
Apno Ke Haathon Mein Khanjar Dekha.

Mat Poochh Iss Zindgi Mein
Inn Aankhon Ne Kya Manjar Dekha,
Maine Har Insaan Ko Yahan
Bas Khud Se Hi Bekhabar Dekha.

राजू पासवान द्वारा दिनाँक 24.11.16 को प्रस्तुत
पेज शेयर करें
   
© 2015-2017 हिंदी-शायरी.इन | डिसक्लेमर | संपर्क करें | साईटमैप
Best Shayari in hindi | Love Sad Funny Shayari and Status in Hindi