Search Results for - Sabia Khan

तन्हाई शायरी

हर शाम अधूरी...

इक दर्द छुपा हो सीने में मुस्कान अधूरी लगती है,
न जाने क्यूँ बिन तेरे... हर शाम अधूरी लगती है।

Na Jaane Kyun Bin Tere...

Ek Dard Chhupa Ho Seene Me Muskan Adhoori Lagti Hai,
Na Jaane Kyun Bin Tere... Har Shaam Adhoori Lagti Hai.

साबिया खान द्वारा दिनाँक 15.12.16 को प्रस्तुत
पेज शेयर करें
   
© 2015-2017 हिंदी-शायरी.इन | डिसक्लेमर | संपर्क करें | साईटमैप
Best Shayari in hindi | Love Sad Funny Shayari and Status in Hindi