होम / कैटेगरी : शिक़वा शायरी

Shikwa Shayari in Hindi

रूठ के जाना तेरा...


ले गया जान मेरी... रूठ के जाना तेरा,
ऐसे आने से तो बेहतर था, न आना तेरा।


रूठ के जाना तेरा शायरी

एडमिन द्वारा दिनाँक 30.11.16 को प्रस्तुत | कमेंट करें
Advertisement

दूरियां तो मिटा दूँ...


तुझसे दूरियां तो मिटा दूँ मैं... एक पल में मगर,
कभी कदम नहीं चलते कभी रास्ते नहीं मिलते।



एडमिन द्वारा दिनाँक 30.11.16 को प्रस्तुत | कमेंट करें
Advertisement

शिकवे तो कम नहीं...


घुट घुट के जी रहा हूँ तेरी नौकरी में ऐ दिल,
बेहतर तो होगा अब तू कर दे मेरा हिसाब,
शिकवे तो कम नहीं है पर क्या करुं शिकायत,
कहीं हो न जाएं तुझसे रिश्ते मेरा खराब।



राजेश कुमार वर्मा द्वारा दिनाँक 29.11.16 को प्रस्तुत | कमेंट करें

उसकी चालाकियाँ...


उसे लगता है कि उसकी चालाकियाँ
मुझे समझ नहीं आती,
मैं बड़ी खामोशी से देखता हूँ
उसे अपनी नज़रों से गिरते हुए।


उसकी चालाकियाँ शायरी

एडमिन द्वारा दिनाँक 29.11.16 को प्रस्तुत | कमेंट करें
Advertisement

हम बिकते रहे...


तुझे फुर्सत ही न मिली मुझे पढ़ने की वरना,
हम तेरे शहर में बिकते रहे किताबों की तरह।


हम बिकते रहे शायरी

एडमिन द्वारा दिनाँक 27.11.16 को प्रस्तुत | कमेंट करें
Ads from AdNow
loading...