होम / कैटेगरी : दो लाइन शायरी

Two Line Shayari in Hindi

कहीं ऐसा न हो जाये...


इरादे बाँधता हूँ, सोचता हूँ, तोड़ देता हूँ,
कहीं ऐसा न हो जाये, कहीं वैसा न हो जाये।



एडमिन द्वारा दिनाँक 29.11.16 को प्रस्तुत | कमेंट करें
Advertisement

लौ चिरागों की...


अभी महफ़िल में चेहरे नादान नज़र आते हैं,
लौ चिरागों की जरा और घटा दी जाये।



एडमिन द्वारा दिनाँक 28.11.16 को प्रस्तुत | कमेंट करें
Advertisement

शेर ओ सुखन...


शेर-ओ-सुखन क्या कोई बच्चों का खेल है?
जल जातीं हैं जवानियाँ लफ़्ज़ों की आग में।



एडमिन द्वारा दिनाँक 25.11.16 को प्रस्तुत | कमेंट करें

शब्दों से खेलती हूँ...


मैं शब्दों से खेलती हूँ हैरान होते हैं लोग,
करती हूँ हाले दिल बयान तो परेशान होते हैं लोग।



वीणा द्वारा दिनाँक 20.10.16 को प्रस्तुत | कमेंट करें
Advertisement

ख़्वाब की गहराई...


लगता है इतना वक़्त मेरे डूबने में क्यूँ...?
अंदाज़ा मुझ को ख़्वाब की गहराई से हुआ।


ख़्वाब की गहराई शायरी

एडमिन द्वारा दिनाँक 20.09.16 को प्रस्तुत | कमेंट करें
Ads from AdNow
loading...