होम / कैटेगरी : सैड शायरी

हिंदी में सैड शायरी

ग़ज़ल मोहब्बतों की...

मैं किसे सुना रहा हूँ ये ग़ज़ल मोहब्बतों की,
कहीं आग साजिशों की कहीं आँच नफरतों की,
कोई बाग जल रहा है ये मगर मेरी दुआ है,
मेरे फूल तक न पहुँचे ये हवा तज़ामतों की।

ग़ज़ल मोहब्बतों की शायरी

-Advertisement-

वही वहशत वही हैरत...

वही वहशत, वही हैरत, वही तन्हाई है मोहसिन,
तेरी आँखें मेरे ख़्वाबों से कितनी मिलती-जुलती हैं।

-Advertisement-

मोहब्बत में ठिकाना न रहा...

मोहब्बत में न अपना कोई ठिकाना रहा,
सारी उम्र बस उनका आना-जाना रहा,
हमने राज खुलने न दिए दिल के उनपर,
खतों में हर्फ़ का लिखना मिटाना रहा।

कुछ मैं भी थक गया...

कुछ मैं भी थक गया उसे ढूँढ़ते हुए,
कुछ ज़िन्दगी के पास भी मोहलत नहीं रही,
उसकी हर एक अदा से झलकने लगा खलूस,
जब मुझको ऐतबार की आदत नहीं रही।

-Advertisement-

चाहत बिछड़ने लगी...

अब तो तबियत हमारी बिगड़ने लगी है,
कोई चाहत जो हमसे बिछड़ने लगी है,
आरज़ू जो कोई दिल में दबी रह गयी,
अब बन के धुआँ कहीं उड़ने लगी है,
हर अक्स तेरा दिल की गहराई में है,
रूह दिल के ज़ख्मों से डरने लगी है।
~बलराम सिंह

हमसे जुड़ें
फेसबुक पेज
पेज शेयर करें
 
Best Shayari in hindi | Love Sad Funny Shayari and Status in Hindi