होम / दोस्ती शायरी / दोस्त हम वादे पर

दोस्त हम वादे पर...


( धरम मौर्या द्वारा दिनाँक 12.10.16 को प्रस्तुत )
Advertisement

नफरत को हम प्यार देते है,
प्यार पे खुशियाँ वार देते है,
बहुत सोच समझकर हमसे कोई वादा करना,
ऐ दोस्त हम वादे पर ज़िन्दगी गुजार देते है।




Advertisement

आप इन्हें भी पसंद करेंगे

Advertisement
Ads from AdNow
loading...

« पिछला पोस्ट अगला पोस्ट »