होम / कैटेगरी : प्रेरक शायरी

हिंदी में प्रेरक शायरी

मुकद्दर खुद बनाता हूँ...

मुसीबत के साये में मैं हँसता-हँसाता हूँ,
ग़मों से उलझ कर भी मैं मुस्कराता हूँ,
हाथों में मुकद्दर की लकीरें है नहीं लेकिन,
मैं तो अपना मुकद्दर खुद बनाता हूँ।

बलदेव सैनी द्वारा दिनाँक 22-09-2018 को प्रस्तुत | कमेंट करें
-Advertisement-

हौसलों के सामने...

हाथ बाँधे क्यों खड़े हो हादसों के सामने,
हादसे कुछ भी नहीं हैं हौसलों के सामने।

एडमिन द्वारा दिनाँक 18-08-2018 को प्रस्तुत | कमेंट करें
-Advertisement-

जीतने का मजा...

खोकर पाने का मज़ा ही कुछ और है,
रोकर मुस्कुराने का मज़ा ही कुछ और है,
हार तो जिंदगी का हिस्सा है मेरे दोस्त,
हार के बाद जीतने का मजा ही कुछ और है।

एडमिन द्वारा दिनाँक 11-08-2018 को प्रस्तुत | कमेंट करें

कभी हार नहीं होती...

लहरों को साहिल की दरकार नहीं होती,
हौसला बुलंद हो तो कोई दीवार नहीं होती,
जलते हुए चिराग ने आँधियों से ये कहा,
उजाला देने वालों की कभी हार नहीं होती।

हरिओम गौतप द्वारा दिनाँक 09-08-2018 को प्रस्तुत | कमेंट करें
-Advertisement-

कर्म करो बस तुम...

कर्म करो बस तुम अपना लोग उसे जानेगें ही,
आज नहीं तो कल ही सही लोग तुम्हें पहचानेगें ही।

शुभम पांडेय द्वारा दिनाँक 29-07-2018 को प्रस्तुत | कमेंट करें

हमसे जुड़ें
फेसबुक पेज
पेज शेयर करें
 
© 2015-2019 हिंदी-शायरी.इन | डिसक्लेमर | संपर्क करें | साईटमैप
Best Shayari in hindi | Love Sad Funny Shayari and Status in Hindi