होम / कैटेगरी : हर्ट टचिंग लाइन

हिंदी में हर्ट टचिंग लाइन

बीतते हुए लम्हे...

हाथ से बीतते हुए लम्हों को कैसे रोकूँ,
जो मुकद्दर-ए-ज़िन्दगी है उसे कैसे टोकूं,
खुदा न करे कि ऐसा लम्हा आये,
जो सारी ख्वाहिशों को संग ले जाए,
इजाज़त बस खुदा से इतनी चाहिए,
जितनी भी ज़िन्दगी है बस तेरी याद में बीत जाये।

तेरे बिना भी क्या ज़िन्दगी,
चलती तो हवाएं भी हैं,
तेरे बिना क्या ज़िन्दगी,
बदलते तो रुख भी हैं,
फर्क बस इतना सा है,
कि हवाओं और रुख का मोड़ होता है,
मैं तो यूँ भी तेरे बिना बेवजह हूँ।

राह चलते तो हजारों मुसाफिर मिलते हैं,
ज़िन्दगी में तो कई मुसाफिर अपने बनते हैं,
अपनों और गैरों में भी बहुत फर्क होता है,
कुछ पास होके भी दूर हैं,
कुछ दूर होके भी दिल के सबसे करीब हैं।

- सृष्टि श्रीवास्तव

बीतते हुए लम्हे शायरी

-Advertisement-

मुकम्मल तो होने दो...

इश्क़ में खुद को गिरफ्तार तो होने दो,
अपने जिस्म पे मेरा इख्तियार तो होने दो,
मोहब्बत यूँ ना ठुकराओं मेरी ये नाइंसाफी है,
मुकम्मल तो होने दो, अभी बाकी है।

मेरे प्यार को जरा तैयार तो होने दो,
मेरी हदों को जरा सा पार तो होने दो,
अब तलक तुमने मेरी हद कहाँ नापी है,
मुकम्मल तो होने दो, अभी बाकी है।

ठीक से अभी आँखों को चार तो होने दो,
मेरे इश्क़ का जुनून खुद पे सवार तो होने दो,
दिल की गहराइयों में अब तलक तू कहाँ झाँकी है,
मुकम्मल तो होने दो, अभी बाकी है।

तुमहारी पलकों को मेरा इंतज़ार तो होने दो,
भीतर से हाँ बाहर से इंकार तो होने दो,
मेरी तन्हाइयों ने बस तेरी ही राह ताकी है,
मुकम्मल तो होने दो, अभी बाकी है।

अपना दिल मेरी ओर फ़रार तो होने दो,
ज़माने की नज़रों में मुझे गुनहगार तो होने दो,
इश्क़ करना ग़र है गुनाह तो माफ़ी है,
मुकम्मल तो होने दो, अभी बाकी है।

- मुकेश अग्रवाल

-Advertisement-

ये खुशी तो रही...

कम से कम ये खुशी तो रही,
तू मेरे ख्वाब का हिस्सा सही,
है बस उनसे शिकायत यही,
कहनी थी जो बात नहीं कही,
गूँजती है अब भी कानों में,
बात जो तुमने कभी नहीं कही,
नाव लिए हम बैठे ही रहे,
और नदी दूर से बहती रही,
उम्र गुजरी गुनगुनाते हुए,
वो ग़ज़ल जो अधूरी रही।

- डॉ. वेद प्रकाश भारद्वाज

चाहत इतनी ही हो...

चाहत इतनी ही हो कि जी संभल जाए,
इस कदर भी न चाहो कि दम निकल जाए।
~अनिल कुमार साहू

चाहत इतनी ही हो शायरी

-Advertisement-

हकीक़त बदल गई...

उल्फत बदल गई कभी नीयत बदल गई,
खुदगर्ज़ जब हुए तो फिर सीरत बदल गई,
कुछ लोग अपना कसूर दूसरों पे डाल कर,
ये सोचते हैं कि उनकी हकीक़त बदल गई।

हमसे जुड़ें
फेसबुक पेज
पेज शेयर करें
 
Best Shayari in hindi | Love Sad Funny Shayari and Status in Hindi