Abdul Hameed Adam Shayari

Sharaab Ki Tohmat Nahi Pasand...

साक़ी मुझे शराब की तोहमत नहीं पसंद,
मुझ को तेरी निगाह का इल्जाम चाहिए।

Saaki Mujhe Sharaab Ki Tohmat Nahi Pasand,
Mujh Ko Teri Nigaah Ka ilzaam Chahiye.

Sharaab Ki Tohmat Nahi Pasand शायरी

-Advertisement-

Wo Aankhein Kitni Qaatil Hain...

हम उससे थोड़ी दूरी पर हमेशा रुक से जाते हैं,
न जाने उससे मिलने का इरादा कैसा लगता है,
मैं धीरे-धीरे उनका दुश्मन-ए-जाँ बनता जाता हूँ,
वो आँखें कितनी क़ातिल हैं वो चेहरा कैसा लगता है।

Hum Uss Se Thodi Doori Par Hamesha Ruk Se Jaate Hain,
Na Jaane Uss Se Milne Ka Iraada Kaisa Lagta Hai,
Main Dheere-Dheere Unka Dushman-e-Jaan Banta Jaata Hoon,
Wo Aankhein Kitni Qaatil Hain Wo Chehra Kaisa Lagta Hai.

-Advertisement-

कट गई हयात...

उसके बगैर भी तो अदम कट गई हयात,
उसका खयाल उससे जियादा जमील था।

साकी नजर मिला के पिला...

शिकन न डाल जबीं पर शराब देते हुए,
यह मुस्कराती हुई चीज मुस्करा के पिला,
सरूर चीज के मिकदार में नहीं मौकूफ,
शराब कम है साकी तो नजर मिला के पिला।

Shikan Na Daal Zabin Par Sharab Dete Huye,
Ye Muskurati Hui Cheej Muskura Ke Pila,
Saroor Cheej Ke Mikdaar Mein Nahi Maukoof,
Sharaab Kam Hai Saqi Toh Najar Mila Ke Pila.

-Advertisement-
Best Shayari in hindi | Love Sad Funny Shayari and Status in Hindi