होम / कैटेगरी : ग़म शायरी

हिंदी में ग़म शायरी

ग़म का दरिया...

ग़म के दरिया से मिलकर बना है यह सागर,
तुम क्यों इसमें समाने की कोशिश करते हो,
कुछ नहीं है और इस जीवन में दर्द के सिवा,
क्यों मेरी ज़िंदगी में आने की कोशिश करते हो।

-Advertisement-

ग़म में रोये...

ग़म में रोये, आँसू पिए, रातों को तड़पे,
जुनून-ए-मोहब्बत से मिला सबकुछ सिवा तेरे।

ग़म में रोये शायरी

-Advertisement-

ज़ख्म दे गया...

था कोई जो मेरे दिल को ग़म दे गया,
ज़िन्दगी भर न रोने की कसम दे गया,
लाखों में से एक फूल चुना था हमने,
जो काँटों से भी ज्यादा गहरा ज़ख्म दे गया।

ग़म है न ख़ुशी...

ग़म है न अब ख़ुशी है न उम्मीद है न आस,
सब से नजात पाए ज़माने गुज़र गए!

~ खुमार बाराबंकवी

-Advertisement-

अभी और रूलाना...

मैं आँखें बिछाए बैठा हूँ उन्हीं राहों पर,
मगर शायद वो लौटकर न आना चाहते हैं,
ना दो सलाह मुझे खुश रहने की,
शायद वो मुझे अभी और रूलाना चाहते हैं।

हमसे जुड़ें
फेसबुक पेज
पेज शेयर करें
 
Best Shayari in hindi | Love Sad Funny Shayari and Status in Hindi