होम / कैटेगरी : ग़म शायरी

हिंदी में ग़म शायरी

ग़म का समंदर...

हुस्न खो जायेगा प्यार मिट जायेगा,
वक़्त के हाथ सबकुछ लुट जायेगा,
हाँ रहेगी मगर याद मेरे दिल में तेरी,
ग़म का समंदर तो सिमट जायेगा।

मैं भला क्यूँ अब उसकी तमन्ना करूँ,
मेरा हो के भी जब वो मेरा न हुआ,
है यकीन आएगा एक दिन ऐसा भी,
मेरे मरने पे मुझसे वो लिपट जायेगा।

तेरे संग की थी जो बहारों की बातें,
याद हैं मुझको वो चाँद तारों की बातें,
रह गए अब तो तनहा, बेबस, अकेले,
ज़िन्दगी का सफ़र यूं ही कट जायेगा।

ग़म का समंदर शायरी

-Advertisement-

नजर उठा कर तड़प उठे...

मुद्दत से जिन की आस थी
वो मिले भी तो कुछ यूँ मिले,
हम नजर उठा कर तड़प उठे
वो नजर झुका कर गुजर गए।

-Advertisement-

ग़म-ए-दुनिया...

ग़म-ए-दुनिया में ग़म-ए-यार भी शामिल कर लो,
नशा बढ़ता है शराबें जो शराबों में मिलें,
अब न वो मैं हूँ, न तू है, न वो माज़ी है फ़राज़,
जैसे दो साए तमन्ना के सराबों में मिलें।

ग़म ने उबरने न दिया...

एक वो हैं कि जिन्हें उनकी ख़ुशी ले डूबी,
एक हम हैं कि जिन्हें ग़म ने उबरने न दिया।

-Advertisement-

ज़िंदगी में इतने ग़म थे...

कौन सा वो ज़ख्मे-दिल था जो तर-ओ-ताज़ा न था,
ज़िन्दगी में इतने ग़म थे जिनका अंदाज़ा न था,
'अर्श' उनकी झील सी आँखों का उसमें क्या क़ुसूर,
डूबने वालों को ही गहराई का अंदाज़ा न था।

ज़िंदगी में इतने ग़म थे शायरी

हमसे जुड़ें
फेसबुक पेज
पेज शेयर करें
 
Best Shayari in hindi | Love Sad Funny Shayari and Status in Hindi