होम / प्रेरक शायरी / पीर पर्वत सी

पीर पर्वत सी

( एडमिन द्वारा दिनाँक 19-10-2016 को प्रस्तुत )
-Advertisement-

​​​हो गई है पीर पर्वत सी पिघलनी चाहिए,
इस हिमालय से कोई गंगा निकलनी चाहिए​।

आज यह दीवार, परदों की तरह हिलने लगी​,
शर्त लेकिन थी कि ये बुनियाद हिलनी चाहिए​।

​हर सड़क पर हर गली में हर नगर हर गाँव में​,
हाथ लहराते हुए हर लाश चलनी चाहिए​।

सिर्फ हंगामा खड़ा करना मेरा मकसद नहीं​,
सारी कोशिश है कि ये सूरत बदलनी चाहिए​।

​मेरे सीने में नहीं तो तेरे सीने में सही​,
हो कहीं भी आग लेकिन आग जलनी चाहिए​।

~ दुष्यंत कुमार
-Advertisement-

आप इन्हें भी पसंद करेंगे

-Advertisement-
पेज शेयर करें
   
© 2015-2017 हिंदी-शायरी.इन | डिसक्लेमर | संपर्क करें | साईटमैप
Best Shayari in hindi | Love Sad Funny Shayari and Status in Hindi