होम / तारीफ़ शायरी / जलवे मचल पड़े

जलवे मचल पड़े...


( एडमिन द्वारा दिनाँक 21.10.16 को प्रस्तुत )
Advertisement

जलवे मचल पड़े तो सहर का गुमाँ हुआ,
ज़ुल्फ़ें बिखर गईं तो स्याह रात हो गई।

जलवे मचल पड़े



Advertisement

आप इन्हें भी पसंद करेंगे

Advertisement
Ads from AdNow
loading...

« पिछला पोस्ट अगला पोस्ट »