Search Results for - राम करण गहलोत

बेवफा शायरी

दुनिया का भरम पाला...

मैंने कुछ इस तरह से खुद को संभाला है,
तुझे भुलाने को दुनिया का भरम पाला है,
अब किसी से मुहब्बत मैं कर नहीं पाता,
इसी सांचे में एक बेवफा ने मुझे ढाला है।

Tujhe Bhulane Ko...

Maine Kuchh Is Tarah Se Khud Ko Sambhala Hai,
Tujhe Bhulane Ko Duniya Ka Bharam Pala Hai,
Ab Kisi Se Muhabbat Main Kar Nahi Pata,
Isee Saanche Me Ek Bewafa Ne Mujhe Dhhala Hai.

राम करण गहलोत द्वारा दिनाँक 09.04.17 को प्रस्तुत
पेज शेयर करें
   
© 2015-2017 हिंदी-शायरी.इन | डिसक्लेमर | संपर्क करें | साईटमैप
Best Shayari in hindi | Love Sad Funny Shayari and Status in Hindi