होम / गरीबी पर शायरी / रोशनी कच्चे घरों तक
-Advertisement-

रोशनी कच्चे घरों तक

वो जिसकी रोशनी कच्चे घरों तक भी पहुँचती है,
न वो सूरज निकलता है, न अपने दिन बदलते हैं।

-Advertisement-
-Advertisement-

You may also like

हमसे जुड़ें
फेसबुक पेज
पेज शेयर करें
 
Best Shayari in hindi | Love Sad Funny Shayari and Status in Hindi