-Advertisement-

Sawaal Bahut The

सवाल बहुत थे
जवाब कुछ भी नहीं था
सफर पुराना था मगर
अंजाम कुछ भी नहीं था

कदम बेतरतीब चले जा रहे थे
हिसाब कुछ भी नहीं था
पिघल रहे थे हौसले मेरे बर्फ की मानिंद
बेहिसाब कुछ भी नहीं था

वो मिले राह में चलते-चलते
तब थकान कुछ भी नहीं थी
ठहरकर मुझे इश्क़ की गली में
पर मकाम कुछ भी नहीं था

पल-ए-सुकून मिला ज़रूर
जवाब कुछ भी नहीं था
लाजवाब था उनका मिलना
पर उनकी नज़रो में
मेरा प्यार कुछ भी नहीं था।

-Advertisement-
-Advertisement-
Best Shayari in hindi | Love Sad Funny Shayari and Status in Hindi