-Advertisement-

Mere Dard Ki Kaifiyat

Bahut Juda Hai Auron Se
Mere Dard Ki Kaifiyat,
Zakhm Ka Koi Pata Nahi,
Takleef Ki Intehaan Nahi.

बहुत जुदा है औरों से
मेरे दर्द की कैफियत,
ज़ख्म का कोई पता नहीं और
तकलीफ की इन्तेहाँ नहीं।

Mere Dard Ki Kaifiyat Shayari

-Advertisement-
-Advertisement-
Best Shayari in hindi | Love Sad Funny Shayari and Status in Hindi