Garibi Shayari in Hindi

-Advertisement-

Gareeb Ka Janaza...

जनाजा बहुत भारी था उस गरीब का,
शायद सारे अरमान साथ लिए जा रहा था।

Janaza Bahut Bhaari Tha Us Gareeb Ka,
Shayad Saare Armaan Saath Liye Ja Raha Tha.

-Advertisement-

Gareeb Ko Marne Ki Jaldi...

यहाँ गरीब को मरने की
इसलिए भी जल्दी है साहब,
कहीं जिन्दगी की कशमकश में
कफ़न महँगा ना हो जाए।

Yahaan Gareeb Ko Marne Ki
Iss Liye Bhi Jaldi Hai Saahab,
Kaheen Zindagi Ki Kashmkash Mein
Kafan Mahenga Na Ho Jaye.

-Advertisement-

Rukhi Roti Baant Kar...

रुखी रोटी को भी बाँट कर खाते हुये देखा मैंने,
सड़क किनारे वो भिखारी शहंशाह निकला।

Rukhi Roti Ko Bhi Baant Kar Khaate Huye Dekha Main Ne,
Sadak Kinaare Wo Bhikhaari Shahenshaah Nikla.

-Advertisement-

Roshani Kachche Gharon Tak...

वो जिसकी रोशनी
कच्चे घरों तक भी पहुँचती है,
न वो सूरज निकलता है
न अपने दिन बदलते हैं।

Wo Jiski Roshani
Kachche Gharon Tak Bhi Pahunchti Hai,
Na Wo Sooraj Nikalta Hai,
Na Apne Din Badalte Hain.

-Advertisement-

वो राम की खिचड़ी...

वो राम की खिचड़ी भी खाता है,
रहीम की खीर भी खाता है,
वो भूखा है जनाब उसे,
कहाँ मजहब समझ आता है।

Best Shayari in hindi | Love Sad Funny Shayari and Status in Hindi