होम / ग़म शायरी / शबे ग़म काट चुका

शबे ग़म काट चुका...


( एडमिन द्वारा दिनाँक 03.11.16 को प्रस्तुत )
Advertisement

आधी से ज्यादा शब-ए-ग़म काट चुका हूँ,
अब भी अगर आ जाओ तो ये रात बड़ी है।

शबे ग़म काट चुका



Advertisement

आप इन्हें भी पसंद करेंगे

Advertisement
Ads from AdNow
loading...

« पिछला पोस्ट अगला पोस्ट »