होम / कैटेगरी : मौसम शायरी

हिंदी में मौसम शायरी

-Advertisement-

मेरे जख्म...

जिस के आने से मेरे जख्म भरा करते थे,
अब वो मौसम मेरे जख्मों को हरा करता हैं।

अम्बर में बादल गर्मी शायरी...

आज अम्बर में बादल छाए है,
बारिश के कुछ आसार लग रहे हैं,
हो जाए तो बहुत अच्छा है,
वरना...
पंखे कूलर भी अब अंगार लग रहे हैं,
पसीने से तर कपडे और यह मच्छर,
उसपे लाइट के कट बार बार लग रहे हैं,
कितने अच्छे होते हैं वो सर्दी के दिन,
यह दिन सचमुच कितने बेकार लग रहे हैं।

-Advertisement-

मजबूरियॉ ओढ़ के...

मजबूरियॉ ओढ़ के निकलता हूं घर से आजकल,
वरना शौक तो आज भी है बारिशों में भीगनें का ।

मजबूरियॉ ओढ़ के शायरी

मौसम यूँ रो पड़ेगा...

हमें क्या पता था,
ये मौसम यूँ रो पड़ेगा;
हमने तो आसमां को बस
अपनी दास्ताँ सुनाई है ।

मौसम यूँ रो पड़ेगा शायरी

-Advertisement-

दिल की बाते कौन जाने...

दिल की बाते कौन जाने,
मेरे हालात को कौन जाने,
बस बारिश का मौसम है,
पर दिल की ख्वाहिश कौन जाने,
मेरी प्यास का एहसास कौन जाने ?

दिल की बाते कौन जाने शायरी

हमसे जुड़ें
फेसबुक पेज
पेज शेयर करें
 
Best Shayari in hindi | Love Sad Funny Shayari and Status in Hindi