Search Results for - किशन कुमार झा

वो लम्हे जहर से...

मैं घर का रास्ता भूला, जो निकला आपके शहर से,
इमारत दिल की ढह गई, आपके हुस्न के कहर से,
खुदा माना, आप न माने, वो लम्हे गए यूँ ठहर से,
वो लम्हे याद करता हूँ तो लगते हैं अब जहर से।

~ किशन कुमार झा

गहरे राज़ मेरे...

दुनिया को लगते हैं बुरे अंदाज मेरे,
लोग कहाँ जानते हैं गहरे राज़ मेरे।

-----------------------------

सब जानते हुए भी, क्या कमाल पूछते हो,
मुझे क़त्ल करके मेरा हाल पूछते हो।

-----------------------------

कि पता पूछ रहा हूँ मेरे सपने कहाँ मिलेंगे?
जो कल तक साथ थे मेरे अपने कहाँ मिलेंगे?

-----------------------------

ये जो हर शायर का हाल है,
मोहब्बत की ही तो मिसाल है।

-----------------------------

कुछ बदल जाते हैं, कुछ मजबूर हो जाते हैं,
बस यूं लोग एक-दूसरे से दूर हो जाते हैं।

~ किशन कुमार झा

Best Shayari in hindi | Love Sad Funny Shayari and Status in Hindi