होम / कैटेगरी : माँ शायरी

हिंदी में माँ शायरी

कदमों में जन्नत...

माँ की अजमत से अच्छा जाम क्या होगा,
माँ की खिदमत से अच्छा काम क्या होगा,
खुदा ने रख दी हो जिस के कदमों में जन्नत,
सोचो उसके सर का मुकाम क्या होगा।

दीपक द्वारा दिनाँक 28.12.16 को प्रस्तुत | कमेंट करें
-Advertisement-

घर जैसी रोटियाँ...

ना जाने माँ क्या मिलाया करती हैं आटे मे,
ये घर जैसी रोटियाँ और कहीं मिलती नहीं।

अशोक विश्नोई द्वारा दिनाँक 12.12.16 को प्रस्तुत | कमेंट करें
-Advertisement-

सूखे पत्तों पर...

नीचे गिरे सूखे पत्तों पर
अदब से चलना ज़रा
कभी कड़ी धूप में तुमने
इनसे ही पनाह माँगी थी।

सूखे पत्तों पर शायरी
एडमिन द्वारा दिनाँक 29.11.16 को प्रस्तुत | कमेंट करें

माँ बेखबर नहीं करती...

कोई दुआ असर नहीं करती,
जब तक वो हमपर नजर नहीं करती,
हम उसकी खबर रखे न रखे,
वो कभी हमें बेखबर नहीं करती।

निखिल शुक्ल द्वारा दिनाँक 22.10.16 को प्रस्तुत | कमेंट करें
पेज शेयर करें
   
© 2015-2017 हिंदी-शायरी.इन | डिसक्लेमर | संपर्क करें | साईटमैप
Best Shayari in hindi | Love Sad Funny Shayari and Status in Hindi