Read Shayari in Hindi

आया था दिवाना...


छलक जाने दो पैमाने
मैखाने भी क्या याद रखेंगे,
आया था कोई दिवाना
अपनी मोहब्बत को भुलाने।



एडमिन द्वारा दिनाँक 01.12.16 को प्रस्तुत | कमेंट करें
Advertisement

फूल मुरझा जायेंगे...


बहारों के फूल एक दिन मुरझा जायेंगे,
भूले से कहीं याद तुम्हें हम आ जायेंगे,
अहसास होगा तुमको हमारी मोहब्बत का,
जब कहीं हम तुमसे बहुत दूर चले जायेंगे।


फूल मुरझा जायेंगे शायरी

निजामुद्दीन अल्वी द्वारा दिनाँक 01.12.16 को प्रस्तुत | कमेंट करें
Advertisement

पुकार के लाया...


चल न उठके वहीं चुपके चुपके तू ऐ दिल,
अभी उसकी गली से पुकार के लाया हूँ।



एडमिन द्वारा दिनाँक 30.11.16 को प्रस्तुत | कमेंट करें

ग़म दिल में है...


क्या जाने किसको किससे है
अब दाद की तलब,
वह ग़म जो मेरे दिल में है
तेरी नज़र में है।


ग़म दिल में है शायरी

एडमिन द्वारा दिनाँक 30.11.16 को प्रस्तुत | कमेंट करें
Advertisement

रूठ के जाना तेरा...


ले गया जान मेरी... रूठ के जाना तेरा,
ऐसे आने से तो बेहतर था, न आना तेरा।


रूठ के जाना तेरा शायरी

एडमिन द्वारा दिनाँक 30.11.16 को प्रस्तुत | कमेंट करें
Ads from AdNow
loading...